Category: Aarti

  • जय जय शनि देव महाराज: भजन (Aarti Jai Jai Shanidev Maharaj) Bhajan Lyrics in Hindi

    Aarti Jai Jai Shanidev Maharaj जय जय शनि देव महाराज, जन के संकट हरने वाले । तुम सूर्य पुत्र बलिधारी, भय मानत दुनिया सारी । साधत हो दुर्लभ काज ॥ तुम धर्मराज के भाई, जब क्रूरता पाई । घन गर्जन करते आवाज ॥ जय जय शनि देव महाराज..॥ तुम नील देव विकराली, है साँप पर […]

  • श्री हनुमान जी आरती (Shri Hanuman Ji Ki Aarti)

    Shri Hanuman Ji Ki Aarti ॥ श्री हनुमंत स्तुति ॥ मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं, बुद्धिमतां वरिष्ठम् ॥ वातात्मजं वानरयुथ मुख्यं, श्रीरामदुतं शरणम प्रपद्धे ॥ ॥ आरती ॥ आरती कीजै हनुमान लला की । दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥ जाके बल से गिरवर काँपे । रोग-दोष जाके निकट न झाँके ॥ अंजनि पुत्र महा बलदाई […]

  • शिव आरती – ॐ जय शिव ओंकारा (Shiv Aarti – Om Jai Shiv Omkara)

    ॐ जय शिव ओंकारा, स्वामी जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा ॥ ॐ जय शिव ओंकारा…॥ एकानन चतुरानन पंचानन राजे । हंसासन गरूड़ासन वृषवाहन साजे ॥ ॐ जय शिव ओंकारा…॥ दो भुज चार चतुर्भुज दसभुज अति सोहे । त्रिगुण रूप निरखते त्रिभुवन जन मोहे ॥ ॐ जय शिव ओंकारा…॥ अक्षमाला वनमाला, मुण्डमाला धारी […]

  • सूरज की लाली तुझे तिलक लगाती है: भुज मूवी आरती (Duraj Ki Lali Tujhe Tilak Lagati Hai By Movie Bhuj Aarti) Bhajan Lyrics in Hindi

    सूरज की लाली तुझे तिलक लगाती है बगिया की डाली-डाली पुष्प चढ़ाती है ‒‒:‒‒/‒‒:‒‒ Skip पुरवाई आके तेरा भवन बुहारती बरखा की जल धारा चरण पघारती रिद्दी-सिद्धि तुझसे है, तुझसे ही ज्ञान है एक दन्त दयावंत देवों में महान है आदि है अनादी तुही सर्वेस्वराय काज करें विघ्न हरे तू ही विध्नेस्वराय धरती है तुझसे […]

  • अम्बे तू है जगदम्बे काली: माँ दुर्गा, माँ काली आरती (Maa Durga Maa Kali Aarti)

    अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली । तेरे ही गुण गाये भारती, ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥ तेरे भक्त जनो पर, भीर पडी है भारी माँ । दानव दल पर टूट पडो, माँ करके सिंह सवारी । सौ-सौ सिंहो से बलशाली, अष्ट भुजाओ वाली, दुष्टो को पलमे संहारती । […]

  • श्री बृहस्पति देव की आरती (Shri Brihaspati Dev Ji Ki Aarti)

    जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा । छिन छिन भोग लगा‌ऊँ, कदली फल मेवा ॥ ऊँ जय वृहस्पति देवा, जय वृहस्पति देवा ॥ तुम पूरण परमात्मा, तुम अन्तर्यामी । जगतपिता जगदीश्वर, तुम सबके स्वामी ॥ ऊँ जय वृहस्पति देवा, जय वृहस्पति देवा ॥ चरणामृत निज निर्मल, सब पातक हर्ता । सकल मनोरथ दायक, कृपा […]

  • एकादशी माता की आरती (Ekadashi Mata Ki Aarti)

    ॐ जय एकादशी, जय एकादशी, जय एकादशी माता। विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता॥ ॐ जय एकादशी…॥ तेरे नाम गिनाऊं देवी, भक्ति प्रदान करनी। गण गौरव की देनी माता, शास्त्रों में वरनी॥ ॐ जय एकादशी…॥ मार्गशीर्ष के कृष्णपक्ष की उत्पन्ना, विश्वतारनी जन्मी। शुक्ल पक्ष में हुई मोक्षदा, मुक्तिदाता बन आई॥ ॐ जय […]

  • Shani dev aarti lyrics in hindi – शनिदेव की आरती

    Shani dev ki aarti lyrics in hindi – शनिदेव की आरती जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी। सूर्य पुत्र प्रभु छाया महतारी॥ जय जय श्री शनि देव…. श्याम अंग वक्र-दृ‍ष्टि चतुर्भुजा धारी। नी लाम्बर धार नाथ गज की असवारी॥ जय जय श्री शनि देव…. क्रीट मुकुट शीश राजित दिपत है लिलारी। मुक्तन की माला गले […]

  • Gulshan Kumar Shiv Bhajans Lyrics in Hindi | Best Collection of Shiv Bhajans

    Gulshan Kumar Shiv Bhajans Lyrics in Hindi | Best Collection of Shiv Bhajans   भजन: शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ (Shiv Shankar Ko Jisne Pooja) Bhajan Lyrics in Hindi सुबह सुबह ले शिव का नाम – भजन (Subah Subah Le Shiv Ka Naam) Bhajan Lyrics in Hindi हे शम्भू बाबा मेरे […]

  • मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की – माँ संतोषी भजन (Main Toh Aarti Utaru Re Santoshi Mata Ki) Bhajan Lyrics in Hindi

    Main Toh Aarti Utaru Re Santoshi Mata Ki Bhajan Lyrics in Hindi मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की । मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की । जय जय संतोषी माता जय जय माँ॥ जय जय संतोषी माता जय जय माँ जय जय संतोषी माता जय जय माँ बड़ी ममता है बड़ा […]