Category: Aarti

  • जय जय जय श्री शनि देव भक्तन हितकारी लिरिक्स – Free Hindi Lyrics Online 2022

    Aarti By Suraj | August 8, 2022 जय जय जय श्री शनि देव भक्तन हितकारी,सूर्य पुत्र प्रभु छाया महातारी ,जय जय जय शनि देव….. श्याम अंग वक्र दृष्टि चतुर्भुजा धारी,नीलाम्बर धार नाथ गज की असवारी,जय जय जय शनि देव….. क्रीट मुकुट शीश रजित दिपत है लिलारी,मुक्तन की माला गले शोभित बलिहारी,जय जय जय शनि देव….. मोदक मिष्ठान पान […]

  • Mata Rani Aarti Lyrics In Hindi – अंबे माता जी की आरती – मां दुर्गा की आरती

    Mata Rani Aarti Lyrics In Hindi – अंबे माता जी की आरती – मां दुर्गा की आरती अम्बे तू है जगदम्बे काली लिरिक्स अम्बे तू है जगदम्बे काली, जय दुर्गे खप्पर वाली, तेरे ही गुण गावें भारती, ओ मैया हम सब उतारे तेरी आरती। तेरे भक्त जनो पर माता भीर पड़ी है भारी। दानव दल […]

  • Main To Aarti Utaroon Re / मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की Lyrics in Hindi

    मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की जय जय संतोषी माता जय जय माँ बड़ी ममता है बड़ा प्यार माँ की आँखों में बड़ी करुणा माया दुलार माँ की आँखों में क्यों न देखूं मैं बारम्बार माँ की आँखों में दिखे हर घड़ी नया चमत्कार माँ की आँखों में नृत्य करूँ छुम छुम, झम […]

  • bholenaath hey prabhu aarti utarti Lyrics in Hindi भोलेनाथ हे प्रभु आरती उतारती

    भोलेनाथ हे प्रभु आरती उतारती, भोलेनाथ हे प्रभो आरती उतारती, तुझको मैं निहारती, दिल में तू बसा हुआ, फिर भी हूँ पुकारती भावना संवारती, भोलेनाथ हे प्रभु आरती उतारती, भोलेनाथ हे प्रभु आरती उतारती। पास अपने आने दे, दुखड़ा तो सुनाने दे, भक्ति भावना भरी, आंसुओं की है लड़ी, पाँव हूँ पखारती, आरती उतारती, भोलेनाथ […]

  • latest aarti of bholenath Lyrics in Hindi भोलेनाथ की नवीन आरती

    हे भोलेनाथ तेरी आरती गाऊं, आरती गाऊं तुम्हें चित्त में बसाऊं, हे गौरीशंकर तेरी आरती गाऊं, हे शिवशंकर तेरी आरती गाऊं, हे भोलेनाथ तेरी आरती गाऊं । भगीरथी जब धरा पे आये, जटा में भोले की वेग समाये, जनहितकारी पे बलि बलि जाऊं, हे भोलेनाथ तेरी आरती गाऊं ॥ हलाहल से सबको बचाते, नीलकण्ठ तब […]

  • जम्भेश्वर आरती: ओ३म् शब्द सोऽहं ध्यावे (Jambheshwar Aarti Om Shabd Sohan Dhyave) Bhajan Lyrics in Hindi

    ॐ शब्द सोऽहं ध्यावे, स्वामी शब्द सोऽहं ध्यावे । धूप दीप ले आरती, निज हरि गुण गावे । ‒‒:‒‒/‒‒:‒‒ Skip मंदिर मुकुट त्रिशुल ध्वजा, धर्मों की फ हरावे । झालर शंख टिकोरा, नौपत घुररावे । तीर्थ तालवे गुरु की समाधि, परसे सुरग जावे । अड़सठ तीरथ को फ ल, समराथल पावे । मंझ फ ागण […]

  • जगमग जगमग जोत जली है, आरती श्री राम जी (Jagmag Jyot Jali Hai Shri Ram Aarti) Bhajan Lyrics in Hindi

    Jagmag Jyot Jali Hai Shri Ram Aarti जगमग जगमग जोत जली है। राम आरती होन लगी है॥ भक्ति का दीपक प्रेम की बाती। आरति संत करें दिन राती॥ आनन्द की सरिता उभरी है। जगमग जगमग जोत जली है॥ कनक सिंघासन सिया समेता। बैठहिं राम होइ चित चेता॥ वाम भाग में जनक लली है। जगमग जगमग […]

  • जय जय शनि देव महाराज: भजन (Aarti Jai Jai Shanidev Maharaj) Bhajan Lyrics in Hindi

    Aarti Jai Jai Shanidev Maharaj जय जय शनि देव महाराज, जन के संकट हरने वाले । तुम सूर्य पुत्र बलिधारी, भय मानत दुनिया सारी । साधत हो दुर्लभ काज ॥ तुम धर्मराज के भाई, जब क्रूरता पाई । घन गर्जन करते आवाज ॥ जय जय शनि देव महाराज..॥ तुम नील देव विकराली, है साँप पर […]

  • श्री हनुमान जी आरती (Shri Hanuman Ji Ki Aarti)

    Shri Hanuman Ji Ki Aarti ॥ श्री हनुमंत स्तुति ॥ मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं, बुद्धिमतां वरिष्ठम् ॥ वातात्मजं वानरयुथ मुख्यं, श्रीरामदुतं शरणम प्रपद्धे ॥ ॥ आरती ॥ आरती कीजै हनुमान लला की । दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥ जाके बल से गिरवर काँपे । रोग-दोष जाके निकट न झाँके ॥ अंजनि पुत्र महा बलदाई […]

  • शिव आरती – ॐ जय शिव ओंकारा (Shiv Aarti – Om Jai Shiv Omkara)

    ॐ जय शिव ओंकारा, स्वामी जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा ॥ ॐ जय शिव ओंकारा…॥ एकानन चतुरानन पंचानन राजे । हंसासन गरूड़ासन वृषवाहन साजे ॥ ॐ जय शिव ओंकारा…॥ दो भुज चार चतुर्भुज दसभुज अति सोहे । त्रिगुण रूप निरखते त्रिभुवन जन मोहे ॥ ॐ जय शिव ओंकारा…॥ अक्षमाला वनमाला, मुण्डमाला धारी […]